Call or email us for advertisements

Phone: +919031336669

Email: khabarkhandnews@gmail.com

लक्षद्वीप के बहाने एक से कई निशाने

Reported By : सुकेश कुमार झा

Published On : June 1, 2021

कॉर्पोरेट की पैठ के साथ धार्मिक आधार को प्रगति देते हुए 99% मुस्लिम आबादी वाले लक्षद्वीप के लिए लक्ष्य निर्धारित है.


आज पिछले एक महीने से लक्षद्वीप अशांत है, वहां के लोग एक नई मुसीबत में फंस गए हैं। जो क्षेत्र अब तक अनजाना और अछूता सा था  यकायक उबलने लगा है। आम भारतीयों के लिए तो यह द्वीप अब तक मंगल ग्रह से ज्यादा कुछ नही है। एक सुदूर द्वीप जो केरल से 500किमी (समुद्री दूरी) दूर है और मात्र 70,000 की आबादी वाला केंद्रशासित प्रदेश है।

प्राचीनकाल से कोच्ची बंदरगाह और सौदागरो की बस्ती के कारण यह एक मुस्लिम बहुल प्रदेश है । यहां की 99% आबादी मुस्लिम मछुआरों की है और केवल यही एक पेशा यहां सम्भव है। यहां एक संसदीय सीट भी है।  काफी शांत और सुकून भरे इस द्वीप में कोई बड़ी घटना नहीं होने के कारण यह समाचारों में कभी नही आ पाता है। अभी प्रमुख न्यूज पेपर The Hindu में आदर्श विश्वनाथ का एक यात्रा संस्मरण छपा है जिसमे वो एक बड़ा सा शिव मन्दिर की पिक लगाए हुए है  और इसकी साफ सफाई , शानदार बिल्डिंग की तारीफ कर रहे है कि एक ऐसे प्रदेश जहां 99%मुस्लिम हो वहां इतना शानदार मन्दिर एक मिसाल है, जबकि यूपी में सरकारी स्तर पर रोज मस्जिद तोड़े जा रहे हैं। तो शांति और सद्भावना का नायाब नमूना है लक्षद्वीप,  लेकिन पिछले छह माह से राजनैतिक हस्तक्षेप और धार्मिक एजेंडे की वजह से लक्षद्वीप जल रहा है। मछुआरों की बस्ती में बुलडोजर चलने लगे हैं , गरीब  मछली बेचने वाले POTA और UAPA जैसे कानूनों के दायरे में आने लगे हैं। लोगो के खान पान पे पाबंदी थोपी जा रही है और पुलिस तथा  सरकारी एजेंसियां अब बस्ती में पेट्रोलिंग कर रही है। NCRB के रिपोर्ट के अनुसार यहां अपराध दर शून्य है , जी हां जीरो अपराध लेकिन कड़े कानून ठोक दिए गए हैं । लोग शराब बंदी और गोमांस पे प्रतिबंध के खिलाफ गोलबंद हो रहे हैं, सरकारी तोड़ फोड़ के खिलाफ आंदोलनरत है। आखिर छह माह में ऐसा क्या हो गया कि एक शांत प्रदेश जलने लगा है और मुख्य भाग के न्यूज पेपर,  एक्टिविस्ट केवल गोमांस और शराबबंदी पे ही केवल क्यो बोल रहे हैं । लक्षद्वीप वाले मामले को समझने में हम कही कोई भूल तो नही कर रहे ? यह भले ही अभी क्षेत्र विशेष की समस्या लगती हो लेकिन कई कड़ियों को जोड़ा जाए तो समस्या के मूल तक पहुचा जा सकता है। वहां जो चार कानून लाये गए हैं उसमें गोमांस और शराब वाली बात पे सभी लिख रहे हैं, लेकिन यहां कुछ न कुछ छूट रहा है। क्योंकि गोहत्या और शराबबंदी हमेशा से विवादस्पद मुद्दे रहे हैं जिसे सत्ता अपनी सुविधा के अनुसार प्रयोग करती है। पिछले अनुभव बताते हैं कि पहले जिन कानूनो पे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है वो हैं लक्षद्वीप विकास प्राधिकरण को अनन्त शक्तियां देना और अपराध नियंत्रण के नाम पर पुलिस को असीमित शक्ति देना । इतिहास में ऐसे कानूनों को हमेशा स्थानीय पूंजीपतियों के शह पे ही लागू किया जाता है। वहां स्थानीय पूंजीपति तो है नही लेकिन आस पास के बड़े व्यवसियों (कर्नाटक महाराष्ट्र के बिजनेस टाइकून) की नजर यहां “मालदीव पर्यटन मॉडल” से होने वाली जबरदस्त कमाई पे जरूर है । और ऐसे में स्थानीय निवासियों के प्रतिरोध (जमीन और अन्य  संसाधनों के लिए) की आशंका से इनकार नही किया जा सकता। इसी बातों को ध्यान में रख कर ये दोनो कानून पास कराए गए होंगे।  विश्व में अन्य जगहों पर भी पूंजीवादी लाभ के लिए  संसाधनों का दोहन इन दो कानूनों के सहायता से ही शुरु की गया है। अरब सागर के तटों पर “सी हाउस” जैसे इंफ्रस्ट्रक्चर बहुत ही बड़े लाभ का सौदा साबित होंगे, अंतरराष्ट्रीय टूरिज्म से आमदनी डॉलर्स में होगी, लेकिन स्थानीय निवासियों के हक की जमीन, पानी, बिजली और ऐसी सुविधाएं छीने बिना ये सम्भव नही है । ऐसे में ये दो कानून बहुत मददगार होंगे , विकास प्राधिकरण के हाथ को निरंकुश बना कर किसी भी स्ट्रक्चर और आप्राकृतीक लक्सरी केंद्र को खड़ा किया जा सकता है। जब जनता विरोध करे तो पुलिस के हाथ मे असीम ताकत है, किसी को भी जेल में ठूसा जा सकता है। लोगो का ध्यान इस दो कानून से भटकाने के लिए शराब बंदी और गोमांस वाले कानून लाये गए है । ताकि मामला धार्मिक सियासी लगता रहे ,और वैसा ही विरोध होता रहे और इसके नीचे से वो दोनो काम (निर्माण और विस्थापन) आराम से हो जाये। अगर ये लक्षद्वीप में सफल रहे तो जल्द ही अगला कानून वहां आएगा “कश्मीर में प्लॉट खरीदने का” और पुलिस- सेना खोजेगी लक्षद्वीप के “पत्थरबाजो” को और आप इंटरनेट पे विज्ञापन देखेंगे “लक्षद्वीप सी रिजॉर्ट” – 1250 डॉलर पर नाईट ओनली ।


Khabar Khand

The Khabar Khand. Opinion of Democracy

Related Posts

नहीं रहे फर्राटा धावक मिल्खा सिंह, हाल में दी थी कोरोना को मात

भारत के महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह का एक महीने तक कोरोना संक्रमण से जूझने के बाद शुक्रवार (18 जून) को निधन हो गया। उनके परिवार के एक प्रवक्ता ने…

June 19, 2021

मेडीकल इक्विपमेंट्स की खरीदारी पर 10 लाख से भी अधिक के सायबर क्राइम के शिकार हुए अशोक

ऑनलाइन के इस ट्रेंड में चीज़े जितनी आसान हुई है, वहीं ऑनलाइन फ्रॉड व साइबर क्राइम की संभावना भी अधिक हो गई है। इसी तरह ऑनलाइन मेडिकल इक्विपमेंट्स की खरीदारी…

June 17, 2021

पत्रकार की हत्या पर शुरू हुई यूपी में राजनीति, पुलिस सड़क हादसा तो विपक्ष बता रहा शराब माफियों की साजिश

इन दिनों उत्तर प्रदेश में एबीपी के पत्रकार की संदेहास्पद स्थिति में मौत का विषय काफी राजनीतिक सुर्खियां भी बटोर रहा है। दरअसल, सुलभ श्रीवास्तव ने अपने मौत के ठीक…

June 14, 2021