Call or email us for advertisements

Phone: +919031336669

Email: khabarkhandnews@gmail.com

झारखण्ड : जो मनरेगा योजना कभी शुरू ही नहीं उसके बदले भी हुई पैसों की निकासी, जानिए झारखंड में नरेगा योजना का हाल

Reported By : Raj Laxmi

Published On : July 9, 2021

नरेगा योजनाओं की शुरुआत सरकार द्वारा विकास एवं लोगों को रोज़गार से जोड़ने की पहल के तौर पर की गई थी। परंतु कहीं न कहीं अब सरकार की यह नीति भी विफल होते नज़र आ रही है। विफलता के पीछे की बड़ी वजह है कार्य योजनाओं का केवल दस्तावेजी स्तर पर विकास। जी हां, यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है कि किस तरह से पूरा सरकारी सिस्टम घूसखोरी का शिकार है। यहाँ कोई भी बात एक टेबल से दूसरे टेबल तक बिना घुस दिए बढ़ती ही नहीं है।

जिस मकसद से शुरू हुई योजना वह कभी पूरी ही नहीं हो सकी

अब ऐसा ही कुछ हाल सरकार की नरेगा योजनाओं के साथ भी हो रहा है। परंतु यहाँ स्थिति अन्य सरकारी योजनाओं से भी बदत्तर है। इसके पीछे की वजह है योजना का गलत रूप से क्रियान्वयन। यही सबसे बड़ी वजह है कि कोई जितने भी बड़े विकास योजना की सरकार रणनीति बनाता है वह सभी कभी धरातल पर उतर ही नहीं पाते। काम कागज़ पर जरूर दर्ज हो जाता है परंतु न तो इसमें किसी श्रमिक का योगदान होता है और न ही कोई योजना पूरी हो पाती है।

कागज़ ओर पूरी होती विकास की कहानी

ऐसी ही एक सच्चाई बयान करती झारखंड के नरेगा योजना की एक रिपोर्ट जिसके गहन निरीक्षण के बाद यह पता चलता है कि जिन एक दर्जन से भी अधिक योजनाओं के नाम पर सरकार से पैसे ले लिए गए है परंतु कोई भी योजना आपको सच्चाई में देखने पर पूरी नहीं मिलेगी। कुछ योजना तो कभी शुरू गई नहीं हुई जबकि कुछ योजनाओं को केवल कागज़ पर ही पूरा होते दिखाया गया।

6 योजनाएं शुरू भी नहीं हुई, जबकि अन्य में फर्जी तरह से हुई पैसों की निकासी

इसी सच्चाई का पता लगाने झारखंड नरेगा वाच से जुड़े 4 सदस्यों द्वारा 28 जून 2021 को एक दर्जन से भी अधिक मनरेगा योजनाओं का गहराई से अवलोकन किया गया। जिसमें पता चलता है कि 6 योजनाएँ धरातल पर कभी उतरी ही नहीं, वह सिर्फ कागज़ पर ही पूरे होते दिखे । जबकि अन्य योजनाओं का फर्जी मास्टर रोल संशोधित करके ठेकेदारों द्वारा गलत तरीके से पैसे की निकासी की गई है। ऐसे में जिस योजना को सरकार ने लोगों के लिए रोजगार की गारंटी तथा विकास की नई राह के रूप में सामने लाना चाहती थी वह आज के वक्त में केवल ठेकेदारों व योजना के क्रियान्वयन में जुड़े लोगों के लिए लाभ मात्र बनकर रह गई है। तो अब यह सरकार को ही तय करना है कि आखिर किस तरह से वास्तव में नरेगा योजनाओं की असल वजह सामने आती है!


Khabar Khand

The Khabar Khand. Opinion of Democracy

Related Posts

नहीं रहे फर्राटा धावक मिल्खा सिंह, हाल में दी थी कोरोना को मात

भारत के महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह का एक महीने तक कोरोना संक्रमण से जूझने के बाद शुक्रवार (18 जून) को निधन हो गया। उनके परिवार के एक प्रवक्ता ने…

June 19, 2021

मेडीकल इक्विपमेंट्स की खरीदारी पर 10 लाख से भी अधिक के सायबर क्राइम के शिकार हुए अशोक

ऑनलाइन के इस ट्रेंड में चीज़े जितनी आसान हुई है, वहीं ऑनलाइन फ्रॉड व साइबर क्राइम की संभावना भी अधिक हो गई है। इसी तरह ऑनलाइन मेडिकल इक्विपमेंट्स की खरीदारी…

June 17, 2021

पत्रकार की हत्या पर शुरू हुई यूपी में राजनीति, पुलिस सड़क हादसा तो विपक्ष बता रहा शराब माफियों की साजिश

इन दिनों उत्तर प्रदेश में एबीपी के पत्रकार की संदेहास्पद स्थिति में मौत का विषय काफी राजनीतिक सुर्खियां भी बटोर रहा है। दरअसल, सुलभ श्रीवास्तव ने अपने मौत के ठीक…

June 14, 2021